सपा-बसपा गठबंधन का कहीं भी असर नहीं : अवधपाल

अन्य बड़ी खबरें

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) द्वारा अपने गठबंधन को जितना प्रभावी दिखाया जा रहा है, उतना है नहीं। यह बातें पूर्व मंत्री अवधपाल सिंह यादव ने कही। श्री यादव गुरुवार को बसपा को अलविदा कहकर भाजपा में शामिल हुए हैं। वह दिल्ली से लौटने के बाद शुक्रवार को बसपा छोडऩे के कारणों की जानकारी दे रहे थे। अवधपाल ने कहा कि भाजपा से हार के डर से सपा व बसपा के नेताओं ने तो गठबंधन कर लिया। किन्तु उन बसपा कार्यकर्ताओं का क्या होगा जो सपा शासन काल में सपा से प्रताडि़त रहे हैं। पूर्व मंत्री ने अपना उदाहरण देते हुए बताया कि 2012 की सपा सरकार के समय उन पर सपा के कायर्कर्ताओं द्वारा हत्या, लूट व बलात्कार जैसे झूठे मामले लगाए गये हैं। यही नहीं मेरे करीब 10 हजार समर्थकों को भी ऐसे ही झूठे मामलों में इतना प्रताडि़त किया गया है कि वे क्षेत्र छोड़कर पलायन करने को विवश हुए हैं। अवधपाल का सवाल था कि सपा के लोगों से पीडि़त बसपा के लोग चुनाव में सपा उम्मीदवार को कैसे समर्थन करेंगे, यह समझ से बाहर है। बता दें कि पूर्वमंत्री अवधपाल सिंह यादव को उनके भाई व बसपा से एमएलसी रहे चन्द्रप्रताप चंदू सहित गुरुवार को रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा भाजपा की सदस्यता दिलाई गयी है। जिले के बड़े नेताओं में शुमार अवधपाल अलीगंज के दबंग नेता व विधायक रहे लटूरी सिंह यादव के पुत्र हैं तथा स्वयं भी 1991, 1993 में सपा से जबकि 1995 में बसपा से विधायक रहे हैं। 1998 में वे भाजपा से एमएलसी भी रहे हैं। अवधपाल भाजपा के कार्यकाल में जिले से अकेले कैबिनेट मंत्री, जबकि बसपा से 2007 में निर्वाचित होने के बाद मायावती सरकार में स्वतंत्र प्रभार के राज्यमंत्री भी रहे हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *