शहनाई सम्राट बिस्मिल्लाह खां के पोते प्रधानमंत्री के प्रस्तावक बनने के इच्छुक, भेजा पत्र

उत्तर प्रदेश देश लखनऊ

दूसरी बार 25 या 26 अप्रैल को नामांकन कर सकते है

गोमती आवाज ब्यूरो
लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वाराणसी संसदीय सीट से दूसरी बार 25 या 26 अप्रैल को नामांकन कर सकते हैं। ऐसे में पिछले लोकसभा चुनाव की तरह नगर के कई विशिष्ट व्यक्ति प्रधानमंत्री का प्रस्तावक बनने के लिए इच्छुक हैं। मरहूम शहनाई स्रमाट भारत रत्न उस्ताद बिस्मिल्लाह खां के पौत्र नासिर अब्बास बिस्मिल्लाह ने भी चुनाव में प्रधानमंत्री का प्रस्तावक बनने की इच्छा जताई है। नासिर ने इसके लिए प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। नासिर ने शुक्रवार को बताया कि प्रधानमंत्री के चुनाव में उनका प्रस्तावक बनने के साथ उनके नामांकन जुलूस में शामिल होने के लिए 11 अप्रैल को पत्र लिखा है। उस्ताद के पुत्र मरहूम नैयर हुसैन के दूसरे नम्बर के पुत्र नासिर प्रधानमंत्री के व्यक्तित्व और राष्ट्रवादी सोच से प्रभावित हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा है, ‘मैं नासिर अब्बास बिस्मिल्लाह पौत्र भारत रत्न (स्व.) उस्ताद बिस्मिल्लाह खां आपके प्रति अति नम्र निवेदन व ख्वाहिश है कि आप हमारे शहर वाराणसी से लोकसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने आए तो, मैं उस दौरान आपके साथ रहना चाहता हूं। यह हमारे लिए बहुत ही यादगार और शुभकामनाओं भरा पैगाम होगा। नासिर ने पत्र में प्रधानमंत्री को याद दिलाया है कि अपने दादाजी की शहनाई जो वे बजाया करते थे। आपके हाथों राष्ट्र को समर्पित किया था। वो शहनाई बड़ालालपुर स्थित हस्तकला संकुल के संग्रहालय में रखी हुई है। उन्होंने प्रधानमंत्री से कहा है कि हमें आपसे पूरी उम्मीद ही नहीं बल्कि पूरा यकीन है कि आप हमें अपने नामांकन कार्यक्रम में जरूर आमंत्रित करेंगे। नासिर ने बताया कि पत्र की एक प्रति उन्होंने पीएमओ में भी भेजी है। यहां बताते चलें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री के स्थानीय चुनाव संचालकों ने उस्ताद के परिवार को नामांकन में आने और प्रस्तावक बनने का मौका दिया था। तब उस्ताद के मरहूम पुत्र नैयर हुसैन और अन्य परिजनों ने उसे ठुकरा दिया था। अब परिवार के तीसरी पीढ़ी का नामांकन में शामिल होने के लिए पत्र लिखना शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *