ऐशबाग-सीतापुर रूट का आगाज

बड़ी खबरें

 रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने ट्रेन को दिखाई हरी झंडी

मीटरगेज छोटी लाइन ट्रेनों की छुकछुक की जगह तेज रफ्तार ब्रॉडगेज बड़ी लाइन की ट्रेन हवा से बात करती नजर आइ
गोमती आवाज ब्यूरो
लखनऊ। आखिरकार 133 साल पुराने ऐशबाग-सीतापुर रूट पर बुधवार को नए युग का आगाज हो गया। मीटरगेज छोटी लाइन ट्रेनों की छुकछुक की जगह तेज रफ्तार ब्रॉडगेज बड़ी लाइन की ट्रेन हवा से बात करती नजर आई। शुरुआत एक स्पेशल पैसेंजर ट्रेन से हुई। आम यात्रियों की इस ट्रेन में सफर कर सैकड़ों यात्री इसके साक्षी बने। खुद रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा खैराबाद, अवध में रूट का लोकार्पण किया। इसके बाद ट्रेन में बैठकर रेल राज्य मंत्री आला अफसरों व सांसद गण के साथ रवाना हो गए। रेल व संचार राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि अमान परिवर्तन होने से यात्रियों को बहुत सुविधाएं मिलेंगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पूरे देश में रेल सेवाओं में सुधार किया गया है। जो ट्रेनें गोरखपुर से लखनऊ होकर निकलती थी, अब वो सीधे सीतापुर होकर गुजरेंगी। ट्रेनें भी बढ़ेंगी। यहां के यात्रियों को बेहतर रेल नेटवर्क का फायदा मिलेगा। शीघ्र ही मैलानी तक भी अमान परिवर्तन कार्य पूर्ण कर रेल संचालन शुरू किया जाएगा। उन्होंने केंद्र की विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं को गिनाते हुए इसका श्रेय प्रधानमंत्री को दिया। इसके बाद उन्होंने हरी झंडी दिखाकर स्पेशल पैसेंजर ट्रेन को रवाना किया। इसके बाद ट्रेन में ही यात्रियों के साथ बैठकर रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हाए आला अफसरों व सांसद गण रवाना हो गए। रेल राज्यमंत्री सुबह जेट एयरवेज के विमान से सुबह 10:40 बजे लखनऊ के चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पहुंचे। यहां से सड़क मार्ग से वह सीतापुर जिले के खैराबाद अवध स्टेशन आए। इसके बाद सीतापुर से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सीतापुर-ऐशबाग नए ब्रॉडगेज रूट का लोकार्पण किया। इसी के साथ स्पेशल ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। उधर पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मंडल प्रशासन ने इस रूट पर ट्रेन संचालन शुरू होने को लेकर मंगलवार देर शाम तक तैयारियां की। रेलवे ने संरक्षा सहित कई बिन्दुओं पर अपनी तैयारियों को परखने के लिए मंगलवार को इस रूट पर एक इंजन को चलाया था। इस रूट पर ट्रेन का स्पीड ट्रायल भी किया गया था। बख्शी का तालाब, मोहिबुल्लापुर और सिधौली स्टेशनों पर जनरल टिकट की बिक्री के लिए अनारक्षित टिकट सिस्टम को परखा गया। बुधवार को स्पेशल ट्रेन में सफर के लिए यात्रियों को टिकटों की बिक्री भी की जाएगी।
13 मई 2016 को थमा था सफर
ऐशबाग से सीतापुर के बीच 13 मई 2016 को आखिरी ट्रेन नैनीताल एक्सप्रेस ने डाउन में अपना सफर तय किया था। यह ट्रेन टनकपुर से वापस आयी थी। तब से यह रूट बंद था। ऐशबाग-सीतापुर सेक्शन पर 88.25 किलोमीटर लंबे रूट का अमान परिवर्तन 374 करोड़ रुपये से किया गया है। इस रूट पर 41 क्रासिंग, छह सीमित ऊंचाई वाले सबवे, आठ रोड डायवर्जन और सात स्टेशनों पर पैदल पुलों का निर्माण किया गया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *