विकास को ही मानना चाहिए भगवान

राजनीति

अखिलेश यादव ने भाजपा पर जनता को मुद्दों से भटकाने का आरोप लगाया
गोमती आवाज ब्यूरो
कानपुर देहात। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने केंद्र तथा प्रदेश की सरकार पर गंभीर आरोप लगाया है। कानपुर देहात के झींझक क्षेत्र के गांव में आज खंजाचीनाथ के दूसरे जन्मदिन पर अखिलेश यादव ने उसके माता-पिता को घर का तोहफा दिया है। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी पर जनता को मुद्दों से भटकाने का आरोप लगाया। अखिलेश यादव ने कहा कि केंद्र तथा उत्तर प्रदेश की सरकार लंबे समय से विकास की बात कर रही थी। देश तथा प्रदेश में विकास की लंबी बातें करने वाली पार्टी के मुंह से अब विकास की बात गायब हो गई है। भाजपा जब कोई भी काम करने में नाकाम रही तो लोगों को लड़ाने का काम शुरू कर दिया है। अब धार्मिक मुद्दे उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस भी अब धार्मिक मामलों में बात करने लगी है। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के भगवान हनुमान को दलित बताने के मामले में कहा कि विकास के मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए धार्मिक मुद्दे उठाए जा रहे हैं। इससे पहले तो हमारे सीएम योगी आदित्यनाथ ने ही कहा था कि बंदर भगाना हो तो हनुमान चालिसा का पाठ करो। इनको कोई काम नहीं करना हैए लेकिन ध्यान भंग करना है। अखिलेश यादव ने कहा कि हमें तो विकास को ही भगवान मानना चाहिए। विकास का हर काम हमारे लिए तो सबसे बड़ा मंदिर है। विकास के काम से ही जनता तो राहत मिलती है। उनको किसी मुद्दे में थोड़े समय के लिए बांधा जा सकता है। उन्होंने कहा कि आज हम खजांची के गांव में उसके माता.पिता को पांच लाख के घर का तोहफा देने आए हैं। हमने इस परिवार से वादा किया था। हम तो अपने वादे को निभा रहे हैं। कानपुर देहात जिले के झिंझक से तीन 3 किलोमीटर की दूरी पर खजांचीनाथ का गांव है। नोटबंदी के दौरान जन्मे खजांचीनाथ को आज पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जन्मदिन का तोहफा दिया। उसको अखिलेश ने दो-दो घर का तोहफा दिया गया। इस दौरान खजांची के हाल निवास उसके ननिहाल अनंतपुर गांव में दूसरे मकान की चाबी सौंपकर अखिलेश यादव रसूलाबाद होते हुए लखनऊ लौटे। इस मौके पर 11 किलो का केक काटा गया। इसके लिए कल देर शाम तक गांव अनंतपुर व सरदारपुरवा में तैयारियां चलती रहीं। सरकार को चीनी मिल मालिकों की चिंता: अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार ने दिखावे के लिए 44 चीनी मिलों को 2619 करोड़ रुपये के सॉफ्ट लोन का भुगतान किया है। किसानों को इससे कोई फायदा पहुंचने वाला नहीं है। सच तो यही है कि भाजपा को किसानों की नहीं, चीनी मिल मालिकों के हितों की चिंता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *