जब गुरु नानक देव के चरणों के साथ घूमने लगा था काबा

SOCIAL MEDIA
साऊदी अरब के शहर मक्का में स्थित है काबा। काबा इस्लाम धर्म को माननेवलों के लिए सबसे बड़ा धार्मिक स्थल है। 
इस्लाम के अनुयायी नमाज अदा करते समय अपना मुख काबा की तरफ ही रखते हैं। इतिहास की एक घटना सिख और 
इस्लाम धर्म से जुड़ी है। यह घटना इस बाद का संदेश देती है कि हम इंसान चाहे किसी भी नाम और रूप में उस परम
 सत्ता की पूजा कर लें, वह सत्ता तो एक ही है। उस परम शक्ति ने ही हम सभी को एक जैसा बनाया है और हमने न 
सिर्फ खुद को बल्कि उस शक्ति को भी धर्म के नाम पर बांट लिया है।समाज में व्याप्त कुरीतियों और बुराइयों को दूर 
करने तथा धर्म के प्रचार-प्रसार के लिए सिख धर्म के प्रचारक गुरु नानक देव जी देश और विदेश की लगातार यात्राएं 
किया करते थे। इसी क्रम में एक बार वह मक्का पहुंचे। दिन भर घूमने और लोगों से मिलने के क्रम में वह बहुत अधिक 
थक गए थे और इस थकान के कारण सो गए। उसी समय वहां इस्लाम को माननेवाले लोग पहुंचे और नानक देव पर
 यह कहते हुए क्रोधित होने लगे कि तू कौन काफिर है, जो अल्लाह के घर की तरफ फैर करके सो रहा है? इस पर नानक
 देव ने बहुत ही शांति से उत्तर दिया कि मैं तो दिनभर की दौड़-धूप से थककर सो गया। मुझे तो हर तरफ ही ईश्वर 
नजर आता है। अगर तुम्हे लगता है कि मेरे पैर ईश्वर के घर की तरफ हैं तो घुमाकर उस तरफ कर दो, जिधर ईश्वर
 का घर न हो। इस पर उन लोगों ने नानक के पैर घुमाकर काबा से उल्टी दिशा में कर दिए। जैसे ही उन्होंने नानक
 के पैर जमीन पर छोड़े और सिर उठाकर देखा तो हैरान रह गए, काबा उसी तरफ था जिधर उन्होंने नानक के पैर किए। 
लेकिन खुद को भ्रम में मानते हुए उन्होंने दोबार नानक के पैर दूसरी दिशा में घुमा दिए लेकिन फिर से काबा पैरों की 
तरफ ही नजर आया। इस पर वे लोग हैरान रह गए। उन्हें इस बात पर यकीन नहीं हो रहा था कि जिस तरफ भी इस 
व्यक्ति के पैर घुमाए जाते हैं , काबा उसी दिशा में घूम जाता है। उन्हें अहसास हुआ कि नानक कोई सामान्य व्यक्ति नहीं
 हैं। इस पर उन्होंने नानक देव से अपनी भूल लिए क्षमा मांगी। यह घटना इस बात का प्रमाण है कि हम ईश्वर को
 भगवान, अल्लाह, जीसस क्राइस्ट या किसी भी दूसरे नाम से पुकार लें, वह परम शक्ति एक ही है और अपने भक्त 
की केवल भक्ति देखती है और कुछ नहीं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *