पुलिस, हैवान और शैतान से परेशान है जनता: अनुराग भदौरिया

बड़ी खबरें

लखनऊ। सूबे में अब जंगल राज के बजाए बीहड़ राज हो गया है। कभी निरीह जनता को पुलिस अकारण गोली मारकर मौत की नींद सुला देती है, तो कभी बदमाश उन्हें अपना निशाना बना लेते हैं। इस शासन काल में मानव रूपी हैवानों ने महिलाओं का जीना दूभर कर दिया है। इन सबके बावजूद सत्ता पक्ष का यह दावा बरकरार है कि सूबे में राम राज्य है। बनारस, देवरिया और राजधानी लखनऊ में महिलाएं और छात्राएं पुलिस की लाठियों का निशाना बनाई जा रही हैं। अब प्रदेश की निरीह जनता, हैवान, शैतान और पुलिस से परेशान है। यह बातें समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता अनुराग भदौरिया ने हिन्दी दैनिक ‘गोमती आवाज’ की खास मुलाकात में कहीं। कई प्रश्नों पर श्री भदौरिया ने खुलकर जवाब दिया। पेश है बातचीत के प्रमुख अंश…
समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनने से समाजवादी पार्टी को कितना नुकसान पहुंचेगा?
समाजवादी पार्टी काफी पुरानी पार्टी है। कोई भी पार्टी बनने से उस पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ेगा। सेक्युलर मोर्चा भी सपा को कोई नुकसान नहीं पहुंचा पायेगी। सपा के राष्टï्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के नेतृत्व में लगातार पार्टी आगे बढ़ रही है और इसका परिणाम उपचुनाव और आने वाले लोकसभा चुनाव में देखने को मिलेगा। भाजपा चुनाव आने तक कई ऐसी पार्टियां बनायेगी लेकिन उससे कोई असर नहीं पड़ेगा, जबकि लोकसभा चुनाव में जनता इसका जवाब देगी।
प्रदेश की कानून-व्यवस्था को लेकर क्या कहेंगे?
उत्तर प्रदेश की कानून-व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है। अपराधी बेलगाम होकर प्रदेश भर में हत्या, लूट और डकैती की वारदात कर रहे हैं लेकिन भाजपा सरकार झूठे दावे करने में व्यस्त है। एक सप्ताह पूर्व ही राजधानी लखनऊ के विभूतिखण्ड क्षेत्र में एक गैस एजेंसी के कैशियर की गोली मारकर हत्या कर दी गयी लेकिन हत्यारों की अभी भी गिरफ्तारी नहीं हुई। पूरे प्रदेश में अपराधियों ने आतंक मचा रखा है।
लाखों युवाओं को रोजगार देने का दावा कितना सही है?
भाजपा सरकार में छात्र-छात्राओं को नौकरी के बदले लाठियां दी जा रही हैं। उन्हें पीट-पीटकर सड़क पर लहूलुहान छोड़ दिया जा रहा है। छात्राओं को भी बुरी तरह से पीटा गया। बीएचयू में भी छात्रों पर लाठियां भरसाईं गयीं। रोजगार देने का दवा करने वाली सरकार पूरी तरह से फेल है। युवा बेरोजगारी के चलते पेरशान हैं लेकिन सरकार झूठे दावे और उन पर लाठियां चलवाने में व्यस्त है।
भाजपा के कुछ नेता दिसंबर से राम मंदिर निर्माण कार्य शुरू होने का दावा कर रहे हैं। इसमें कितनी सच्चाई है?
राम के ललियों को लाठी से पीटा जा रहा है और ललाओं को गोली मार दी जा रही है। भाजपा के पास कोई मुद्दा नहीं बचा है और यह मंदिर को ही मुद्दा बना रहे हैं। 2019 लोकसभा चुनाव में जनता इसका मुंहतोड़ जवाब देगी और इनका उत्तर प्रदेश में चार सीटें आना मुश्किल हो जायेगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *