सीबीआई, आईबीआई से लेकर कई एजेंसियों में विवाद आ रहे सामने

उत्तर प्रदेश देश लखनऊ

प्रमुख एजेंसियों के दामन हो रहे दागदार
गोमती आवाज ब्यूरो
लखनऊ। जिन पर पूरे देश को नाज हुआ करता था आज उन्हीं का दामन दागदार हो गया है। ऐसी एजेंसियां जिनका नाम सुनकर अपराधियों और आरोपियों के माथे पर पसीना आ जाता था। वहीं आज अर्श से फर्श पर दिख रही है। वर्ष 2018 की शुरुआत से ही कुछ ऐसी ही स्थिति देखने को मिल रही है। बात देश की न्याय व्यवस्था कहे जाने वाले सुप्रीम कोर्ट की हो या भ्रष्टाचार पर कंट्रोल करने वाली सीबीआई की या फिर अर्थव्यवस्था को मजबूत करने की जिम्मेदारी उठाने वाली आरबीआई हो, सभी जगहों पर विवाद की स्थितियां देखने को मिल रही है। खास बात ये है कि सभी जगह विवाद की जो स्थिति बनी वो संस्थानों के बीच ही हुई है। अब सवाल यह है कि जो काम इतिहास में कभी नहीं हुआ तो अब ऐसा क्यों हो रहा है। ऐसे में लोगों के दिमाग में सहज ही ये बातें आने लगी है कि क्या सरकार इन एजेंसियों में जरुरत से ज्यादा दखल दे रही है या फिर यह महज एक इतिफाक है कि सुप्रीम कोर्ट, सीबीआई, आईबीआई से लेकर महत्वपूर्ण एजेंसियों में एक के बाद एक विवाद सामने आ रहें है। आलम ये है कि इन विभागों के चीफ ही एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। आरबीआई गर्वनर के इस्तीफे की बात सामने आने के बाद तो ये बात आम हो गई की सकार और आरबीआई के बीच चल रही तनातनी को लेकर इस्तीफे की बात कहीं गई है।
सीबीआई के शीर्ष अधिकारियों का विवाद
देश में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए सबसे बड़ी एजेंसी मानी जाने वाली सीबीआई में भी निदेशक और विशेष निदेशक ने एक दूसरे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया हैं। दोनों अधिकारियों ने एक दूसरे पर घूसखोरी का आरोप लगाते हुए तलवारें खींची। हालांकि मामले के तूल पकड़ते ही जांच का जिम्मा सतर्कता आयोग सीवीसी को दी गई।
सुप्रीम कोर्ट के जजों का विवाद
बता दें कि जनवरी माह में पहला विवाद सामने आया था। जब सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने मीडिया के सामने आकर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस की प्रशासनिक कार्यशैली पर सवाल खड़े कर दिए थे।
आरबीआई का विवाद
उधर देश की अर्थव्यवस्था कही जाने वाली भारतीय रिजर्व बैंक और सरकार के बीच तकरार हो गई। इस बाबत खबर आ रही है कि गर्वनर उर्जित पटेल इस्तीफा दे सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *