मैंने कॉम्प्रोमाइज किया होता, तो कहीं और होती: रिचा चड्डा

मनोरंजन

बेंगलुरु।  रिचा से हमारी यह मुलाकात बेंगलुरु के खूबसूरत और एंटीक सेट पर हुई। ‘शकीला’ के खूबसूरत और सेक्सी गेटअप में सजी रिचा झूले पर बैठनेवाला सीन एक ही टेक में ओके कर देती हैं। रिचा के अलावा, सेट पर निर्देशक इंद्रजीत लंकेश और पूरी कास्ट व क्रू मौजूद थी। इस अवसर पर फिल्म का लोगो भी लॉन्च किया गया। रिचा ‘शकीला’ की भूमिका को लेकर बेहद उत्साहित हैं। शकीला 90 की दशक की उस अडल्ट स्टार पर आधारित है, जिनकी फिल्में 16 भाषाओं में डब की गई थीं। एक समय शोहरत की बुलंदियों पर राज करनेवाली शकीला के जीवन की त्रासदी यही है कि आज वे वैसा ही फटेहाल जीवन जीने के लिए अभिशप्त हैं, जैसा उनका बचपन गुजरा। मेरे लिए आलोक नाथ की असलियत का सामने आना किसी सदमे से कम न था। मैं दाद देती हूं विंता नंदा की, जो उन्होंने इस उम्र में आकर अपने साथ घटे भयानक सच को लोगों के सामने लाने की हिम्मत की। इतना आसान नहीं है, इस बात का खुलासा करना। मुझे तो घिन आ गई। संध्या का बयान पढ़कर रोंगटे खड़े हो गए। वह उनके पिता की भूमिका कर रहे थे और ये हरकत? गिरावट की हद कर दी उन्होंने। मेरे लिए इस विषय पर बोलना आसान है। मुझपर 400 सौ करोड़ नहीं टंगे हुए हैं, मगर किसी बड़ी हस्ती के लिए यह बोलना मुश्किल है। अक्षय कुमार, अजय देवगन और आमिर खान ने स्टैंड लिया और लिखा कि वे दोषियों के साथ काम नहीं करेंगे। मैं समझती हूं कि इंडस्ट्री में कोई भी लड़की ऐसी नहीं है, जो हैरसमेंट से न गुजरी हो और यह बात मुझ पर भी लागू होती है। मीटू को लेकर जिस तरह के जघन्य सच सामने आ रहे हैं, वैसा मेरे साथ कुछ घटा नहीं है, मगर मैं आपको इतना जरूर कहूंगी कि मेरे टैलंट को देखते हुए मेरा करियर शायद वहां गया नहीं, जहां जाना चाहिए था। जाहिर है, मैंने भी कॉम्प्रोमाइज किया होता, तो मेरा करियर कुछ और होता। जो लोगों को ना बोलेगा, वह धीरे-धीरे आगे बढ़ेगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *