महंगे होंगे मोबाइल और स्मार्ट वॉच, सरकार ने 17 वस्तुओं पर बढ़ाई इंपोर्ट ड्यूटी

आर्थिक

नई दिल्ली। व्यापार घाटे और डॉलर के मुकाबले लगातार गिरते रुपए को देखते हुए सरकार ने बेस स्टेशन और डिजिटल लाइन प्रणाली सहित कुल 17 चुनिंदा संचार उपकरणों पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाकर 20 फीसदी कर दी है। यह दूसरी बार है जब सरकार ने इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाई है। इससे पहले 26 सितंबर को रेफ्रिजरेटरों और एअर कंडीशनरों सहित 19 वस्तुओं पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाई गई थी। बढ़ोत्तरी 12 अक्टूबर से प्रभाव में आ गई है। स्मार्ट वॉच, ऑप्टिकल ट्रांसपोर्ट उपकरण, पैकेट ऑप्टिकल ट्रांसपोर्ट उत्पाद या स्विच, ऑप्टिकल ट्रांसपोर्ट नेटवर्क (ओटीएन) उत्पादों, सॉफ्ट स्विचेस और वॉयस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल (वीओआइपी) पर 10 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी लगाई गई है। कैरियर ईथरनेट स्विच, पैकेट ट्रांसपोर्ट नोड (पीटीएन) उत्पादों, मल्टीप्रोटोकॉल लेबल स्विचिंग ट्रांसपोर्ट प्रोफाइल (एमपीएलएस-टीपी) उत्पादों और मल्टिपल इनपुट/मल्टिपल आउटपुट (एमआईएमओ) पर भी 10 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी में इजाफा किया गया है। वहीं, आईटी सेक्टर से जुड़े एलटीई प्रोडक्ट पर ड्यूटी 20 फीसदी कर दी गई है। केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि केंद्र सरकार का यह मानना है कि कस्‍टम टैरिफ एक्‍ट 1975 के चैप्‍टर 85 के तहत आने वाले सामान पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाई जानी चाहिए। चैप्‍टर 85 के तहत बिजली की मशीनें और सामान, साउंड रिकॉर्डर, टेलीविजन इमेज रिकॉर्ड और उनके पार्ट आते हैं। अभी तक इन सामानों पर 10 फीसदी इंपोर्ट ड्यूटी लगती थी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *